Art Hindi Poems Literature Poems

आँखों की कैद में


आँखों की कैद में,

रहने दो अब मुझे•••••
कभी नूर बन के,
कभी मोतियों के जैसे
तिरने दो अब मुझे••••!

यूँ इस तरह
रुला के,
न रिहा करो मुझे,
आँखों की कैद मे ही,
रहने दो मुझे•••••••!!

Picture by Kat J (Unsplash)

Please follow and like us:
error

2 comments

Leave a Reply