Hindi Poems Literature Poems

सुन लीजिए


कुछ नहीं मै,
बस धड़कते दिल के सिवा,
गर महसूस हो तो,
महसूस कर लिजिये..
भावों का ही बस,
है मुझमें बसेरा,
यकीं गर हो तो,
बस जाईये..
और कुछ नहीं,
बस खाली हूँ मैं,
चुप सदाओं को मेरी
ही सुन लीजिए.

Please follow and like us:
error

Leave a Reply